प्राचीन व्यभिचारी रावण

कालिदास ने कहा है "उत्सवप्रिया: खलु मनुष्या" अर्थात मनुष्य उत्सव प्रेमी होते हैं । त्योहारों का उत्सव उन्हे अपने दुखों और वैमनस्य को भूलने का तथा प्रेम,...

बप्पा रावल

यह आलेख समर्पित है भारत वर्ष के उन महाप्रतापियों को जिन्होंने भारत वर्ष की संस्कृति को अक्षुण्ण रखने के लिए असंख्य बलिदान दिए । भारत वर्ष के इतिहास...

Scientific thoughts in Vaidika Philosophy – 2

In the Part-1 we discussed about different Indian philosophies and how nyaaya and vaisheshika formed the base of logical scientific thinking. We also discussed how vaisheshika proposed...

नमामि गंगे !

'राम तेरी गंगा मैली हो गई, नालों के भार ढ़ोते ढ़ोते' ... जी हाँ, मनुष्य के पाप धुले या न धुले पर कई नालों के पाप धो...

Legend of Ravana: Was he the most ancient Pervert?

Kalidas said “उत्सवप्रिया: खलु मनुष्याः” means all people love festivals because the celebrations enable them to forget their miseries and enmity and build new bridges of love...

दीपावली की शुभकामनाएं !

प्रिय देशवासियों! आप सब दीपावली की तैयारियों में व्यस्त होंगे। दीपावली रौशनी का त्यौहार है, ऐसा तो बचपन से आप भी पढ़ ही रहे होंगे। और हर साल...

Naimisharanya

“एकदा नैमिषारण्ये ऋषयः शौनकादयः.." Thus starts one of the best known Hindu rituals, the narration of the Satya Narayana Katha. This introduction contextualizes three important things. The Hrishi...

एक भ्रम: राजनीति धर्म से अलग है

सोमनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए हिंदू से इतर अन्य धर्म के लोगों को प्रवेश से पूर्व अपना नाम रजिस्टर में दर्ज कराने का प्रावधान है। राहुल...

क्या है करतारपुर कॉरिडोर और भारतीय सिखों के लिए क्यों है इतना महत्वपूर्ण

गुरुनानक देव जी की 550वीं जयंती के मद्देनजर भारत के सिख श्रद्धालुओं के लिए करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने की मोदी सरकार ने मंजूरी दे दी है। सिख समुदाय...

वाह ताज !

भाजपा के एक विधायक की ताजमहल पर की गयी टिप्पणी के बाद देश भर में ताजमहल पर कई प्रकार की डिबेट आरम्भ हो गयीं। एक पक्ष ने...