वासुदेव, यमुना और नेशनल ग्रीन ट्रायब्यूनल

तेज़ वर्षा वाली रात में कंश का कारागार। श्रीकृष्ण का जन्म हो चुका है। वासुदेव उन्हें टोकरी में रखकर गोकुल जाने के लिए तैयार हैं। माता देवकी...

एक भ्रम: राजनीति धर्म से अलग है

सोमनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए हिंदू से इतर अन्य धर्म के लोगों को प्रवेश से पूर्व अपना नाम रजिस्टर में दर्ज कराने का प्रावधान है। राहुल...

नमामि गंगे !

'राम तेरी गंगा मैली हो गई, नालों के भार ढ़ोते ढ़ोते' ... जी हाँ, मनुष्य के पाप धुले या न धुले पर कई नालों के पाप धो...

बापी दास का क्रिसमस

यह निबंध नहीं बल्कि कलकत्ते में रहने वाले एक युवा, बापी दास का पत्र है जो उसने इंग्लैंड में रहने वाले अपने एक नेट-फ्रेंड को लिखा था....

Scientific thoughts in Vaidika Philosophy – Part 1

Ancient Indian scientific thoughts and contributions has been ignored by the historians for long and due credit/place has not been given. The main reason behind this is...

नैतिकता का तर्क

कुरुक्षेत्र में बने योद्धाओं के कक्ष। पितामह के आगे धर्मराज युधिष्ठिर, अर्जुन, भीम और वासुदेव कृष्ण उदास बैठे हैं। पितामह उनको बता चुके हैं कि शिखंडी को...

बप्पा रावल

यह आलेख समर्पित है भारत वर्ष के उन महाप्रतापियों को जिन्होंने भारत वर्ष की संस्कृति को अक्षुण्ण रखने के लिए असंख्य बलिदान दिए । भारत वर्ष के इतिहास...

प्राचीन व्यभिचारी रावण

कालिदास ने कहा है "उत्सवप्रिया: खलु मनुष्या" अर्थात मनुष्य उत्सव प्रेमी होते हैं । त्योहारों का उत्सव उन्हे अपने दुखों और वैमनस्य को भूलने का तथा प्रेम,...

दिवाली पर बुद्धिजीवीयो के नाम खुला ख़त

डियर बुद्धिजीवियों, पटाखों से होने वाले प्रदुषण की ओर हमारा ध्यान आकर्षित करने के लिये धन्यवाद। पटाखे तो खैर हमें जलाना ही था। बाकी आपसे पर्यावरण को बहुत...

जय बाबा री

“जै बाबा री” का उद्घोष अभी रामदेवरा जाने वाले प्रत्येक रास्ते पर पुरज़ोर गूँजता सुनाई दे जाएगा. कभी परमाणु परीक्षण से सुर्ख़ियो में आए देश के पश्चिमी...