सिंगिंग रियलटी शो

एक जमाना था जब परीक्षा का प्रश्नपत्र सेट करने वाले विद्वान् विद्यार्थियों को चैलेन्ज जैसा कुछ देते थे कि वे पोस्टमैन, मेरा गाँव, रेलयात्रा जैसे विषयों पर...

सरकार का चिंता-कार्यक्रम

चुनाव हुए और सरकार बदल गई । सरकार बदल गई तो काम करने का तरीका भी बदल गया । काम करने का तरीका बदला तो समस्याओं को...

वो भारत खंड -२

वो भारत खंड -२ (वो भारत खंड -१ से आगे) दावात्याग - इस खंड का भी यथार्थ से किसी भी प्रकार का कोई वास्ता नहीं है । यह भीे...

जियो और जीने दो

जुमले भी साकार होते है । बस उन्हे देखने वाली नजर होनी चाहिए । मेरी नजर तेज है । इस उम्र में भी मुझे चश्मे की जरुरत...

हिन्दी दिवस पर कवि सम्मेलन

14 सितम्बर को हिन्दी दिवस मनाया जाता है। तरह-तरह के आयोजन होते है। प्रतियोगितायें भी। नारा प्रतियोगिता, काव्य प्रतियोगिता, टिप्पण लेखन। आदि-इत्यादि। वगैरह-वगैरह। एक्सेट्रा-वेक्सेट्रा! कुछ जगह तो...

वोट निंद्य है ।

वोट निंद्य है । वोट निंद्य बेशर्मराज पर कहो नीति अब क्या हो? कैसे वोटर रिझे आज फिर पांव तले तकिया हो? प्रतिपल मूर्ख वोटर को ठगता, मफ़लर-बद्ध चेहरा हो...

वो भारत – खंड १

वो भारत - खंड १ दावात्याग - इस रचना का यथार्थ से किसी भी प्रकार का कोई वास्ता नहीं है । यह लेखक के एक व्यसन विशेष के...

रवीश कुमार जी की चिट्ठी

रवीश कुमार जी की चिट्ठी रवीश कुमार जी की कल की लिखी चिट्ठी पर आज तक गालियां आ रही हैं. चिट्ठी क्या थी बीस पन्ने की पॉकेट बुक थी,...