वो भारत – खंड १

वो भारत - खंड १ दावात्याग - इस रचना का यथार्थ से किसी भी प्रकार का कोई वास्ता नहीं है । यह लेखक के एक व्यसन विशेष के...

रवीश कुमार जी की चिट्ठी

रवीश कुमार जी की चिट्ठी रवीश कुमार जी की कल की लिखी चिट्ठी पर आज तक गालियां आ रही हैं. चिट्ठी क्या थी बीस पन्ने की पॉकेट बुक थी,...

शोले को लाल सलाम

इतिहास किसी सटीक सहस्त्र कोणीय वीडियो पर आधारित नहीं होता. यह तथ्यों के अलावा इतिहासकार की कल्पना, कथा शैली, रुझान एवं पूर्वाग्रह आदि से मिलकर बनता है....
Musharraf funny

पाकिस्तानी बोरियत

पूरी दुनियाँ में शायद ही कोई देश हो, जहाँ घटनाक्रम उतनी तेजी से बदलते हों, जितनी तेजी से पकिस्तान में बदलते हैं. मजे की बात यह है...

गाँधी जी का जन्मदिन – नेताजी का भाषण

हर साल की तरह इस साल भी २ अक्टूबर आ ही गया. हर साल की तरह इस साल भी भाषणों की झड़ी लगेगी, टीवी पर गाँधी फिल्म...

वोट निंद्य है ।

वोट निंद्य है । वोट निंद्य बेशर्मराज पर कहो नीति अब क्या हो? कैसे वोटर रिझे आज फिर पांव तले तकिया हो? प्रतिपल मूर्ख वोटर को ठगता, मफ़लर-बद्ध चेहरा हो...

कोहरा प्रधान जीवन 

पिछले कई दिनों से जीवन कोहरा प्रधान हो गया है. चारों तरफ कोहरा ही कोहरा है. इधर कोहरा, उधर कोहरा. आसमान में कोहरा जमीन पर कोहरा. सड़क...

वो भारत खंड -3

दावात्याग: व्यसन वही है, कल्पना वही है. यथार्थ से वास्ता अब भी नहीं है. (वो भारत खंड -२ से आगे) अगली बैठक जिसमें घनानंद, संग्राम सिंह को उस भारत...

अंकित और अंकिता

वे दोनों पहली बार नौ नवम्बर को एटीएम के बाहर मिले. चार घण्टे लाइन में रहे लेकिन उनका नम्बर आने से पहले पैसे खत्म हो गये. लड़की...

फ़िल्मी प्रेम प्रसंग में दिल

किस काल में कौन सी चीज समाज का दर्पण हो, यह उस काल के समाज पर निर्भर करता है। प्राइमरी या मिडिल स्कूल के विद्यार्थी के लिए...